हर्षोल्लास से नीमच में मनाई गई संविधान निर्माता भारत रत्न बाबासाहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की जयंती, अनुसूचित जाति जनजाति युवक युवती परिचय सम्मेलन संपन्न

Neemuch 14-04-2019 Regional

नीमच - भारत के संविधान निर्माता डॉ भीमराव अंबेडकर जी का जन्मोत्सव 14 अप्रैल 2019 को विगत वर्षो की तरह इस वर्ष भी , मध्यप्रदेश अजाक्स नाजी एवं  समस्त सामाजिक संगठनों के संयुक्त तत्वाधान में गठित बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जन्मोत्सव समिति नीमच द्वारा मनाया गया। इस कार्यक्रम में जन्मोत्सव समिति के सदस्यों द्वारा कई गांव गांव शहर शहर में  जाकर निमंत्रण दिया था
उल्लेखनीय है कि प्रति वर्ष अनुसार इस वर्ष भी अंबेडकर जयंती का दो दिवसीय कार्यक्रम नीमच में संपन्न हुआ! जिसमें 13 अप्रैल शाम 6:00 बजे अंबेडकर सर्कल पर एक शाम भीम के नाम सांस्कृतिक कार्यक्रम के अंतर्गत संपन्न हुआ जिसमें बच्चों ने नृत्य संगीत के विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों के अंतर्गत रंगारंग प्रस्तुति दी। 14 अप्रैल 19 को प्रातः 9:00 बजे बौद्ध वाटिका, टाउन हॉल दशहरा मैदान नीमच पर स्वल्पाहार करने के पश्चात  दशहरा मैदान बुद्ध वाटिका से  विशाल रैली प्रारंभ हुई  बौद्ध वाटिका टाउन हॉल से शहर के विभिन्न मार्गो से होते हुए रैली लगभग 1 बजे अंबेडकर सर्कल  पहुंची। सर्कल पर बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के प्रतिमा पर माल्यार्पण अजाक्स जिलाध्यक्ष राजू सोलंकी ,  सामाजिक संगठन से सूरज मल आर्य, राकेश जावरिया, कन्हैया लाल मालवीय, रामूराम डागर आदि के द्वारा किया गया। माल्यार्पण के पश्चात कार्यक्रम का शुभारंभ  हुआ।
स्वागत भाषण अजाक्स कार्यवाहक अध्यक्ष बाबूलाल आर्य द्वारा दिया गया। बाबासाहब के जीवन पर आर पी मेघवाल द्वारा विस्तृत प्रकाश डाला गया तत्पश्चात पहली बार अनुसूचित जाति एवं जनजाति युवक युवती परिचय सम्मेलन नीमच में सामाजिक एकता मिशन के अंतर्गत संपन्न हुआ जिसमें 57 युवक-युवतियों का परिचय कराया गया। कार्यक्रम को अजाक्स तहसील  ब्लॉक  एवं  जिला कार्यकारिणी के राजू सोलंकी डॉ बीआर  बोरीवाल राजाराम मेघवाल कारुलाल खराडिया गोवर्धन लाल सालवी  लक्ष्मी नारायण मेघवाल शंभू लाल परमार विनोद डांगी प्रकाश मेघवाल विजय लाहोरी बंशीलाल गहलोत राकेश  सोन जगदीश  कोड़ावत रमेश आर्य  लाखन सिंह मौर्य  नागेश्वर ररौतिया मुकेश वर्मा सीटीवी एडिटर राकेश सोन विक्रम परिहार  डॉ प्रहलाद डांगी  विजय परिहार  महेश जांगड़े महिला विंग से सीमा मालेचा अनीता सिसोदिया समाजसेवी राकेश जावरिया बीएल कोयल  आदि द्वारा संबोधित कर कहा गया कि कुरीतियों को मिटाने के लिए प्रयत्न करें। एकजुट रहना समाज की सबसे बड़ी जरूरत है। जातिवाद व्यवस्था पर प्रकाश डाला गया। बाबा साहब की शिक्षा पर प्रकाश डाला गया। बाबा साहब को ज्ञान का प्रतीक बताया।
 कार्यक्रम में सभी ने बढ़-चढ़कर भाग लेने एवं एकजुट रहने के लिए कहा । बाबा साहब के पद चिन्हों पर चलने की अपील की। बाबा साहब के संघर्षों पर प्रकाश डाला एवं सामाजिक एकता मजबूत करने के लिए कहा गया। समाज के अंतिम पंक्ति में बैठे व्यक्ति के विकास के लिए कार्य करने को कहा। बाबा साहब के आदर्शो पर चलने के लिए कार्य करने को कहा। कार्यक्रम में संबोधन के दौरान अजाक्स जिला अध्यक्ष राजू सोलंकी ने समाज को बाबा साहब के विचारों पर चलकर आगे बढ़ने का संकल्प दिलाया कई प्रकार की रूढ़ीवादी परंपरा है जैसे मृत्यु भोज आदि उनको बंद कर बच्चों की शिक्षा पर ध्यान केंद्रित कर उन्हें समाज में एक जिम्मेदार नागरिक बना कर आगे बढ़ाने की बात कही गई। समाज को सामाजिक एवं शैक्षिक क्रांति के साथ साथ आर्थिक क्रांति करने की भी आवश्यकता है। श्री सोलंकी ने कहा कि हमें समाज को आर्थिक रूप से सक्षम करने के लिए कई प्रकार के रोजगार व्यवसाय प्रारंभ करने होंगे जिससे समाज में आर्थिक संपन्नता आएगी आर्थिक संपन्न समाज के साथ किसी प्रकार का कोई भेदभाव नहीं होगा। बाबा साहब के सपना के अनुरूप भारत में सामाजिक एकता के अंतर्गत अनुसूचित जाति जनजाति युवक युवती परिचय सम्मेलन संपन्न हुआ। समाज को आज वैवाहिक संबंधों को आपस में बढ़ाने की जरूरत है सभी जातियां आपस में वैवाहिक संबंध बढ़ाएगी जिससे सामाजिक एकता बढ़ेगी।
कार्यक्रम का सफल संचालन आर पी मेघवाल व यशवंत गोयल द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। आभार प्रदर्शन अजाक्स जिला सचिव देव प्रकाश परिहार एवं नाजी के कोषाध्यक्ष डॉ प्रहलाद डांगी द्वारा किया गया
कार्यक्रम में सभी समाज जनों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया जिसमें महिलाएं बच्चों और समाज के कई गणमान्य नागरिक आदि ने ढोल एवं बैंड के साथ जयंती के अवसर पर रैली के दौरान तपती धूप में नृत्य भी किया कार्यक्रम में अंत में समस्त भीम अनुयायियों ने सर्कल पर सामूहिक रूप से भोजन किया जिनकी संख्या लगभग 10,000 रही।
  
उक्त जानकारी अजाक्स जिला उपाध्यक्ष महेश जांगड़े एवं नागेश्वर रारोतिया के द्वारा संयुक्त रूप से दी गई।

प्रादेशिक